மந்தஸ்மிதம் என்னும் அம்ருத மழை


மந்தஸ்மித சதகம் மந்தஸ்மித 76வதுஸ்லோகம் பொருளுரை – மந்தஸ்மிதம் என்னும் அம்ருத மழை

सङ्क्रुद्धद्विजराजको‌sप्यविरतं कुर्वन्द्विजैः सङ्गमं
वाणीपद्धतिदूरगो‌sपि सततं तत्साहचर्यं वहन् ।
अश्रान्तं पशुदुर्लभो‌sपि कलयन्पत्यौ पशूनां रतिं
श्रीकामाक्षि तव स्मितामृतरसस्यन्दो मयि स्पन्दताम् ॥

Share

த்ரிலோசனஸுந்தரீ


ஸ்துதி சதகம் 27வதுஸ்லோகம் பொருளுரை – த்ரிலோசனஸுந்தரீ

अचरममिषुं दीनं मीनध्वजस्य मुखश्रिया
सरसिजभुवो यानं म्लानं गतेन च मञ्जुना ।
त्रिदशसदसामन्नं खिन्नं गिरा च वितन्वती
तिलकयति सा कम्पातीरं त्रिलोचनसुन्दरी ॥

Share

இனிமை, குளுமை, தூய்மை


மந்தஸ்மித சதகம் 78வதுஸ்லோகம் பொருளுரை – இனிமை, குளுமை, தூய்மை

ये माधुर्यविहारमण्टपभुवो ये शैत्यमुद्राकरा
ये वैशद्यदशाविशेषसुभगास्ते मन्दहासाङ्कुराः ।
कामाक्ष्याः सहजं गुणत्रयमिदं पर्यायतः कुर्वतां
वाणीगुम्फनडम्बरे च हृदये कीर्तिप्ररोहे च मे ॥

Share